16 November 2010

मजाक-मजाक में महिला सशक्तिकरण से सामना

कुछ पैसे देते जाओ।
कितने?
100-200, जितने मर्जी दे दो।
शाम को दूंगा।
अभी चाहियें, वर्ना जाने नहीं दूंगी।
अच्छा ये लो, अब जाने दो।
image
यार, ये देखो मेरे जूते कितने गंदे हो रहे हैं। क्या तुम इन्हें साफ नहीं कर सकती।
बीवी हूँ तुम्हारी, नौकरानी नहीं।
तो क्या बीवियां पति के जूते साफ नही करती हैं, यार वाशिंग मशीन में डाल दिया कर।
करती होंगी, लेकिन मुझसे जूते साफ करवाओगे तो मेरी सैंडिल भी तुम्हें साफ करनी होंगी।
बाप रे! ठीक है बाबा, अगले सण्डे मैं खुद ही धो लूंगा अपने जूते
दोनों बच्चे टीवी को म्यूट करके मुस्कुराते हुये ये असली सीन देख रहे हैं।

15 comments:

  1. तलाक तलाक तलाक :(

    ReplyDelete
  2. डॉ अरविन्द मिश्र की सलाह में यह ट्राई करने की कोशिश मत कर लेना और कुछ तो कर नहीं पाओगे ब्लागिंग से भी जाते रहोगे! हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. सोहिल जी पहली बार आपके ब्लॉग में आया हूँ, अच्छा ब्लॉग है। इसके पहले आपका प्रोफाइल देखा, आपकी ईमानदारी ने प्रभावित किया। आपने लिखा है आपको कमियां खामियां गलतियां बताने वाले लोग पसंद हैं यह बात अच्छी लगी। बहुत कम लोग हैं जो इन चीजों को सकारात्मक लेते हैं। उम्मीद है आपने ये बात केवल लिखने के लिए नहीं लिखी है।
    शुभकामनाएँ...!

    ReplyDelete
  4. नारी शक्ति को नमन !


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  5. bachcho ko shubhkamnaaye kyaa kyaa sunnaa aur jhalnae padtaa haen unko

    ReplyDelete
  6. bahut khoob sahab aaj kal to ye sab aam baat hai lekin sab apne baare me yasa likhte nahi hai
    pranam

    ReplyDelete
  7. अच्छा दिया है घुमा के

    ReplyDelete
  8. ्हा हा हा …………बच के रहना रे बाबा।

    ReplyDelete
  9. अमां जब रियैलिटी शो सामने चल रहा हो तो टी.वी. क्यों देखा जाये?

    ReplyDelete
  10. वाह मेरे बहु इतनी बहादुर है? शाबस मेरी तरफ से। अब आया न ऊँट अहाड के नीचे। बधाई। नारी शक्ति ज़िन्दाबाद।

    ReplyDelete
  11. .

    बेचारे बच्चे ! कहीं कल इतिहास तो नहीं दोहरा देंगे ? वैसे पति पत्नी की मीठी नोक -झोंक अच्छी लगी ।

    .

    ReplyDelete
  12. क्या कहूँ ...भगवान् बचाए ...शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. बच्चे सब ओब्ज़र्व करते हैं..

    खूब लगा मैं भी देख रहा हूँ

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।