13 November 2010

आग दामन में लग जायेगी और रोहतक का राज

श्री राज भाटिया जी आज दिल्ली में हैं और कल सुबह अपने पैतृक घर रोहतक में होंगें। आप सबसे मिलने के लिये श्री राज भाटिया जी ने 21 नवम्बर, रविवार का कार्यक्रम रोहतक में रखा है।  कल की पोस्ट में आपको जगह और पूरा पता बता दिया जायेगा। जो मित्र आज दिल्ली में नुक्कड पर ब्लॉगर मीट करके आ रहे हैं या किसी कारणवश नहीं जा पाये हैं, वो सभी मित्र-बन्धु 21 नवम्बर, रविवार को रोहतक के लिये आरक्षित कर दें। श्री राज भाटिया जी और श्री समीरलाल जी के अलावा आपकी मुलाकात होगी, ब्लॉगजगत की कई नामचीन हस्तियों से श्री दिनेशराय द्विवेदी जी, श्री ताऊ रामपुरिया जी, सुश्री निर्मला कपिला जी, श्री रूपचंन्द्र शास्त्री जी, पी एस पाबला जी, श्री ललित शर्मा जी। बस-बस मैं अभी सबका नाम नहीं बताऊंगा। आपको रोहतक आना ही पडेगा। आप श्री राज भाटिया जी से 09560922699 पर बात कर सकते हैं।

अब आप 10 मिनट मजा लीजिये  इस कव्वाली/नात/संगीत का



इस पाडकास्ट के कारण गायक, रचनाकार, अधिकृता, प्रायोजक या किसी के भी अधिकारों का हनन होता है तो क्षमायाचना सहित तुरन्त हटा दिया जायेगा।

16 comments:

  1. जरूर अंतर सोहिल जी अब तो इंतज़ार है २१ नवम्बर का

    ReplyDelete
  2. दिल्ली के जाड़े में गरमाहट आ गयी है।

    ReplyDelete
  3. अरे वाह, क्या मस्त जमावड़ा होगा।

    ReplyDelete
  4. अच्छी रहेगी ये मीट.... सभी को शुभकामनाये

    ReplyDelete
  5. जय हो
    हम तो कांकड़ तक पहुंच गए हैं

    ReplyDelete
  6. बस इन्तजार कर रहे हैं अपनी यात्रा तो 19 से शुरू हो जायेगी\ शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. हमारी भी कौशिश तो रहेगी कि मुलाकात के लिए थोडा सा समय निकाल सकें....

    ReplyDelete
  8. @ संजय भास्कर जी
    @ प्रवीण पाण्डेय जी
    @ मो सम कौन जी
    @ मोनिका शर्मा जी

    आपके आगमन की सूचना से सभी को बहुत खुशी है। आप सबसे मिलकर बहुत अच्छा लगेगा।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  9. @ ललित शर्मा जी
    गाडी थोडा तेज चलाईये श्रीमान
    आपसे दो दिन पहले आने की उम्मीद लगाये बैठे हैं हम

    प्रणाम

    ReplyDelete
  10. @ सतीश सक्सेना जी
    हम भी बाहर ही खडे हैं जी आपके दर्शन के लिये

    प्रणाम

    ReplyDelete
  11. @ निर्मला कपिला जी

    इंतजार की घडियां खत्म हुई, बस अब माँ के दर्शन होंगें। इसलिये खुशी हो रही है।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  12. @ पंO डीO केO शर्मा"वत्स"

    वादे टूट जाते हैं अक्सर
    कोशिशें कामयाब हो जाती हैं

    प्रणाम

    ReplyDelete
  13. jo bhi ho aapka a yeh blog bahut hi achcha hei....

    www.my-mobile-photography.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. शायद मुझ से अधिक खुशी किसी को नही हो सकती। कितने आभासी रिश्तों को हकीकत मे देखने की खुशी---। शुभकामनायें।

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।