28 May 2010

बह गया मैं गंगा में गंगा के साथ-साथ

लहरों पर सवारी और राफ्ट का
ऊपर नीचे गिरना और डगमग होना

इस समय में मन विचारशून्य हो जाता है
और आनन्द से किलकारियां ही किलकारियां
हम रामझूला से शिवपुरी तक राफ्ट (हवा भरी नाव) के साथ ही एजेन्ट की जीप में बैठकर गये। (यह वही सडक थी जिस पर पिछ्ले साल मेरा एक्सीडेंट हुआ था। उस दुर्घटना के बारे में फिर कभी।)  शिवपुरी में गंगा किनारे पेय पदार्थ और अन्य खाने का सामान बहुत महंगा मेरे बजट में है। एक शिकंजी और एक भेलपुरी की कीमत 20+20 = 40 रुपये देनी पडी। वहां हमें हेलमेट और लाईफ जैकिट दिये गये। ये पहनने के बाद गाईड द्वारा हमें कुछ सुझाव, प्रशिक्षण और नियम बताये गये।


कोडियाला से राफ्टिंग करते वक्त
एक फाल (झरना) भी रास्ते में आता हैं,
वहां राफ्ट के पलटने के 98% अवसर होते हैं
फिर हम हाथ में पैडल (गाईड ने कहा था इसे चप्पू नहीं कहना) लेकर राफ्ट में बैठ गये और गाईड जो हमारा कमांडर भी था उसके अनुदेशों का पालन करते हुए इंतजार करने लगे पहले रैपिड यानि तीव्र बहाव का।
जो आनन्द और उत्साह था उसे शब्दों में बयान करना मेरे लिये तो मुश्किल है। दो रैपिड से निकलने के बाद जहां गंगा की चौडाई बढ जाती हैं, वहां बहाव थोडा शांत सा दिखने लगा था।


रैपिड (तीव्र बहाव) अभी दूर है तो
गाईड ने कहा गैट डाऊन या गो आऊट
तो हम भी कूद गये गंगा में और
स्वतन्त्र रूप से 1-2 किमीO यूं बहने का
अनुभव बताया नही जा सकता
अचानक हमारा गाईड  (जो हमें चिल्ला-चिल्ला कर कमांड कर रहा था) जोर से चिल्लाया - गो डाऊन। हम स्तब्ध रह गये। उसने फिरसे कहा - गेट आऊट
मैनें कहा - भईये तू ही हो जा ना गेट आऊट, लेकिन फिर ख्याल आया कि अरे ये नाव से उतर  गया तो हम भी गये और ये तो तैर कर निकल भी जायेगा पर हमें कौन बचायेगा।
गाईड ने फिर से कहा - जो पानी में उतरना चाहता है, उतर सकता है। अबकी बार मैं उसकी बात समझ गया और राफ्ट से धीरे से गंगा में उतर गया और राफ्ट के चारों ओर बंधी रस्सी पकड ली।




ऐसे ही बहता हुआ मैं लक्ष्मण झूला
के नीचे से भी निकला क्योंकि
यहां हाथ पैर मारना केवल थकना है।

काश जिन्दगी भी ऐसे ही बिना हाथ पैर
मारे बह कर पार कर जाऊं।
अब ज्यादा मजा आने लगा था। धीरे-धीरे वो रस्सी भी छोड दी और बह गये गंगा में गंगा के साथ-साथ। उसके बाद हम फिर से राफ्ट में आ गये, क्योंकि आगे फिर रैपिड आने वाला था।
  
"ॠषिकेश में लक्ष्मण झूला और राम झूला नाम से दो पुल हैं। रामझूला थोडा संकरा और छोटा है, इसपर केवल पैदल यात्री ही जा सकते हैं। जबकि लक्ष्मण झूला पर टूव्हीलर भी चलते हैं।" 





इन्होंने ऊपर छलांग लगाई है और
ऐसा लग रहा है जैसे पानी पर खडे हों।
दूसरी बार छलांग लगाने में तो
मेरी चीख निकल गई थी।
थोडी देर बाद हम ब्रह्मपुरी में रुके वहां एक चट्टान है, कुछ लोग उसपर से गंगा में कूद लगा रहे थे। मैनें पहले कुछ खाया, फिर उस चट्टान पर चढ गया। लेकिन जिस चट्टान को नीचे से दूसरों को कूदते देखने पर आसान लग रहा था। वहां ऊपर पहुंच कर गंगा में झांकने पर जान ही निकल गई। मैं वहीं बैठ गया और अपनी सांसों को काबू करने लगा, जो एकबार नीचे झांकने पर ही रेल की तरह चलने लगी थी। वहां कुछ दूसरे लोग भी बैठे थे, जो मेरी तरह ही  उत्साह में चढ तो गये थे, मगर ऊंचाई से कूदने पर डर रहे थे।



Brahmpuri, 12 KM from Rishikesh
(Height 25-30Ft.)

नीचे से देखने पर इस चट्टान की
ऊंचाई कम दिखती है, लेकिन ऊपर
चढने के बाद दिल जोर से धडकने लगा
पांच मिनट बैठा रहने के बाद मैं फिर से उठा और नीचे देखा। मगर अब फिर सांसें फूल गई। इसी तरह मैं कई बार उठता और बैठ जाता। फिर एक पक्का इरादा किया और माऊंटेन ड्यू के विज्ञापन (डर के आगे जीत है) को याद करके छलांग लगा दी। बस हो गया, अरे कुछ नहीं हुआ। चलो एक बार फिर कोशिश करता हूं।  एक बार फिर से पहुंचा, इस बार ज्यादा देर नहीं लगाई, मगर इस बार डर के मारे मुंह से तेज चीख निकल गई।






लक्ष्मण झूला
इसके नीचे से भी मैं बहते हुए निकला 
 उसके बाद हम फिर से गंगा में उतर गये और बहते रहे। मुझे तैरना नहीं आता है फिर भी मैं हाथ पैर मारने लगा। लक्ष्मण झूला सामने दिख रहा था, मैनें सोचा कि  जबतक मेरी राफ्ट आयेगी, मैं यहां बैठा रहूंगा। इस चक्कर में मैं अपनी राफ्ट से काफी दूर निकल आया और किनारे तक भी नहीं पहुंच पा रहा था। मैं बिल्कुल थक चुका था, ठंड भी लगने लगी थी और डर लगने लगा था कि कहीं आगे कोई रैपिड हुआ तो। मैं बस किसी तरह से गंगा से निकलना चाहता था। तभी एक दूसरी राफ्ट पास आती दिखी। मैनें उसे इशारा किया और उन्होंने मुझे ऊपर राफ्ट में खींच लिया। थोडी देर में मेरी वाली राफ्ट भी आ गई तो मैं उसमें चला गया और हम रामझूला पहुंच गये और हमारी रिवर राफ्टिंग के अनुभव पर आनन्दित होते हुये हम वापिस हरिद्वार आ गये।

नोट : - सभी तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं।

15 comments:

  1. डर के आगे जीत है, वाह. अबकी बार हम गए तो इसका आनंद जरूर लेंगें.

    ReplyDelete
  2. har har gange.......
    har har mahadev....

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  3. मजा आया ! अच्छी प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति!

    ऋषिकेश और लक्ष्मण झूला तो हम भी कई बार गये हैं किन्तु राफ्टिंग एक भी बार नहीं किया।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर लगई आप की यह रिवर राफ्टिंग , वेसे बहुत ऊंचाई से दुसरो को कुदते देख मै भी यहां स्विमिंग पुल के सब से ऊंचे चढ गया था, जब ऊपर से नीचे देखा तो जान ही निकल गई, मेरे पिछे जर्मनो के छोटे छोटे बच्चे थे, इस लिये वापिस आने मै भी शर्म आये तो भईया हम ने आंखे बंद की ओर नीचे कुद गये..... बाहर निकलने लगे तो हमारा कच्छा ही गायब, फ़िर एक बच्चे ने हमे ढुढ कर दिया ओर उस के बाद हम कभी नही गये उस ओर....

    ReplyDelete
  6. maoram sthal aur manoram prastuti...

    ReplyDelete
  7. @ राज भाटिया जी
    हा-हा-हा
    आप तो मिस्टर बीन बन गये जी

    प्रणाम

    ReplyDelete
  8. @ संजीव तिवारी जी
    @ जी के अवधिया जी

    इस बार जायें तो कम से कम एक बार जरूर करके देखें, बल्कि गंगा में स्वतन्त्र रूप से बहें।

    मेरा हौंसला बढाने के लिये सबका हार्दिक आभार
    प्रणाम

    ReplyDelete
  9. अच्छी प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  10. बहोत बढिया,
    सही बताऊं? आपकी पोस्ट से भी मजेदार भाटिया जी की टिप्पणी लगी।

    ReplyDelete
  11. वाह साहब, आप तो अक्षय कुमार से कम नहीं हैं। अगली बार हम भी जायेंगे, एक मोटी सी लाईफ़ पालिसी ले लें पहले। हम भी डर के आगे जीत को देखेंगे।
    अपने को तो जी ऋषिकेश में भीड़ से थोड़ा हटकर गंगाजी को निहारने में जो आनंद आता है, पूछो मत।
    रिवर राफ़्टिंग बढि़या रही आपकी।

    ReplyDelete
  12. आपके जैसे महानुभावों के अनुभव बांटने की वजह से ही आज ऋषिकेश में राफ्टिंग कैम्पिंग का व्यवसाय जिन्दा हैं.
    http://raftingcampingprogram.blogspot.in/2010/11/rafting-camping-in-rishiksh.html

    ReplyDelete
  13. Slot Online
    Joker123
    Fafaslot
    PRAGMATIC PLAY
    I really appreciate your website is very helpful, thank you and I hope we can be successful together

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।