20 May 2010

सोच और वहम का फर्क

अध्यापिका - सोच और वहम में क्या फर्क है
फत्तू चौधरी - आप बहोत सैक्सी सो, या म्हारी सोच सै और हम अभी बच्चे हैं ये आपका वहम है
------------------------------------------------------------------------------------
फत्तू चौधरी मोबाईल रिचार्ज करवाने गया।
फत्तू चौधरी - दस का रिचार्ज कर दे
दुकानदार - सात रुपये का टाक टाईम मिलेगा
फत्तू चौधरी - कोय बात ना, तीन रुपये की नमकीन दे दे
------------------------------------------------------------------------------------
फत्तू चौधरी अपनी पत्नी  से - मेरे तै ब्याह तै पहलां तेरा किसे गेलां कोये चक्कर था? तेरा कोये यार दोस्त था?
जब पत्नी ने कोई जवाब नहीं दिया तो, फत्तू चौधरी - मैं इस खामोशी का के मतबल समझूं, "हां के ना"
फत्तू की पत्नी - अबे गिनने  तो दे
------------------------------------------------------------------------------------
फत्तू (गर्लफ्रेण्ड से) - तू आज कोये इसी बात कह, जिसनै सुण कै खुशी भी होवै अर दुख भी
गर्लफ्रेण्ड - भईया, आई लव यू
------------------------------------------------------------------------------------
ट्यूशन टीचर - अबे गधे होमवर्क क्यूं नहीं करता है तू
आज के छात्र - तमीज से बात करो मास्टर, कस्टमर से ऐसे बात करते हैं क्या

8 comments:

  1. ब्हुत सुंदर जी, सभी मजेदार

    ReplyDelete
  2. हा हा!! सच तो है कस्टमर से तो तमीज से बात करना चाहिये. :)

    ReplyDelete
  3. हा हा हा! हा! वाह्! क्या चुन चुनकर लतीफे लाएं हैं...तीन रूपये की नमकीन दे दे :-)

    ReplyDelete
  4. हा हा हा हा हा हा ......कहीं फत्तू का नाम महफूज़ तो नहीं.....?

    ReplyDelete
  5. अरे वाह, एक से बढ़्कर एक।
    खिलन्दड़ी में हरियाणवियों का कोई मुकाबला नहीं।
    मजा आ गया।

    ReplyDelete
  6. ये मजेदार हैं फत्तू जी। कहां रहते हैं! :)

    ReplyDelete
  7. इश्टूडेण्ट बी कश्टूमर हो गिया।

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।