29 November 2009

ताऊ का साक्षात्कार

आज आपको एक मजेदार बात बताता हूं। शायद आप पहले ही रामप्यारी से सुन चुके हों, लेकिन जिन्होंने नही सुनी उनको तो मजा आयेगा ही। ये तो आपको मालूम ही है के उडनतश्तरी जी, राज भाटिया जी और ताऊ रामपुरिया जी लंगोटिया यार हैं।
तो हुआ नूं के एक बार ये तीनों नौकरी की खातिर इन्टरव्यू देण गये। पहले बारी आई उडनतश्तरी जी की। अन्दर गये और जल्दी ही इन्टरव्यू देकर बाहर आ गये।
ताऊ - हां भाई के सवाल पूछा तेरे तै।
उडनतश्तरी - मेरे से तो ये पूछा के ताजमहल कहां है, नक्शे में बताओ।
फिर राज भाटिया जी का नम्बर आया। भाटिया जी भी जल्दी से इन्टरव्यू दे कर बाहर आये।
ताऊ -  राज तेरे से के पूछा
राज भाटिया जी - मेरे से भी ताजमहल कहां है, नक्शे में पूछा
ताऊ नै सोची ये तो सब तै योए सवाल पूछैं सै। ताऊ नै ताजमहल का बेरा कोनी था। इब ताऊ नै जल्दी-जल्दी नक्शा निकाला और उन दोनों से पूछ कै आगरा ढूंढ लिया और याद कर लिया।
ताऊ की बारी आयी।
साक्षात्कार लेने वाला - आप ये बताईये कि नक्शे में गंगा नदी कहां पर है
ताऊ - जी ताजमहल बता दूं
साक्षात्कार लेने वाला - जी नही आप गंगा नदी बताईये
ताऊ - जी ताजमहल पूछ लो नै
साक्षात्कार लेने वाला - आपको गंगा नदी ही बतानी होगी
ताऊ -  अरै के गंगा-गंगा लगा राखी सै गंगा म्है के डूब कै मरेगा, ताजमहल पूछले नै

यह रचना केवल आपको हंसाने के लिये है। अगर आपको बुरा लगा है तो क्षमाप्रार्थी हूंगा और हटा दूंगा।



9 comments:

  1. भई ताऊ ने तो ताज महल ही याद कर रखा था, ओर फ़िर गंगा मै क्या डूबना था, मजे दार जी बहुत सुंदर.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. गंगा म्है के डूब कै मरेगा,मजे दार जी बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  3. हा हा!! सही तो कहा ताऊ ने..कोई डूब के मरना थोड़ी है. :)

    ReplyDelete
  4. ये तो अच्छा है ताऊ का मूड घणा खराब न था...नहीं वहीं इंटरव्यू लेने वाले का गिच्ची दबा देता...ये फैसला बाद में
    लेता कि लाश को गंगा में बहाना है या ताज महल के नीचे एक और मकबरा बनाना है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  5. यार सारी पोलपट्टी खोल के रखदी? ताऊ लाख इज्जत बचाने की कोशीश करे पर पुराने पाप पानी की लकडी की तरह सामने आजाते हैं.:)

    बहुत जोरदार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. ताऊ तो सेठ आदमी है उसने के जरूरत पड़गी नौकरी की |

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।