03 December 2010

सूरज की मालकिन

"किसी की जिन्दगी अंधेरों में डूब जाये तो क्या
वो चाहते हैं सूरज उन्हीं के घर में रहे"

image
उपरोक्त पंक्तियां किसकी हैं, मुझे नहीं पता। लेकिन इन पंक्तियों में मैं तो यही समझ पाया हूँ कि ये तंज है,  उन राजनेताओं, पूंजिपतियों पर और जो निरीह और मासूम जनता का खून चूसते हैं।

मैं तो एक चवन्नी ना दूं, बल्कि गर्मियों में ऊल्टा केस ठोक दूंगा उनपर कि उनका सूरज मेरे घर पर धूप डालता है, उनके सूरज ने मेरे ऊपर धूप डालकर मेरी त्वचा झुलसा दी है। उनके सूरज की गर्मी के कारण मेरे बच्चे स्कूल बस में आते-जाते परेशान हो जाते हैं। :-)

20 comments:

  1. बिल्कुल जी आप ऐसा करेंगे तो आपके इस अभियान मे सब साथ हो जायेंगे। आखिर सूरज का मामला है साथ मे पब्लिसिटी मुफ़्त मिलेगी।

    ReplyDelete
  2. ये पब्लिसिटी स्टंट के शिवाय कुछ नहीं है इस प्रकार के दावे इतिहास में बहुत हो चुके है |केस करना हो तो अकेले अकेले मत कर बैठना हमें भी साथ में ले लेना |

    ReplyDelete
  3. दुनिया में सिरफिरे लोगों की कमी नहीं है।

    ReplyDelete
  4. पैदा होने के पहले ही हम कितने कर्जों से लदे हैं।

    ReplyDelete
  5. महेन्द्र जी ने सही कहा-दुनिया में सिरफिरे लोगों की कमी नहीं है।

    ReplyDelete
  6. पहले खुद के मालिक बन लें। फिर और किसी का बनने की सोचें। इस जिन्दगी का तो भरोसा नहीँ। :)

    ReplyDelete
  7. इन मोहतरमा को पागल खाने भेज देना चाहिए.

    ReplyDelete
  8. एंजेल्स डुरान पक्की ताऊ की भायेली लागरी सै, चूना लगावण का विचार पक्का हो राख्या दिखै?:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. हमारा विरोध दर्ज करें अमित भाई इन मोहतरमा के बयान पर। आज सूरज को अपना बता रही हैं तो कल को चाँद को अपना बता देंगी। ताऊ की टिप्पणी से सहमत हैं हम।

    ReplyDelete
  10. इसी विषय पर मेरा लेख देखीये
    http://vigyan.wordpress.com/2010/12/01/पराया-सूरज/

    ReplyDelete
  11. इन मोहतरमा को पागल खाने भेज देना चाहिए.

    ReplyDelete
  12. सभी के जीवन में अपने-अपने हिस्‍से का सूरज हो.

    ReplyDelete
  13. यह इंसानी फितरत है ...क्या कहें ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  14. मैं तो एक चवन्नी ना दूं, बल्कि गर्मियों में ऊल्टा केस ठोक दूंगा उनपर कि उनका सूरज मेरे घर पर धूप डालता है, उनके सूरज ने मेरे ऊपर धूप डालकर मेरी त्वचा झुलसा दी है। उनके सूरज की गर्मी के कारण मेरे बच्चे स्कूल बस में आते-जाते परेशान हो जाते हैं। :-)

    bilkul sahi....bear bhi garam ho jati hai or dahi khatti...iska case thokna padega....

    ReplyDelete
  15. बच्चे हमे भी आपने साथ समझना आशीर्वाद का हाथ दे रहे हैं। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  16. यह लोग चर्चित होने के लिए कुछ भी कर सकते हैं ...

    ReplyDelete
  17. एक कंपनी ने चन्द्रमा की जमीन बेचनी शुरू की नतीजा मैं भी १ एकड़ जमीन का वहां मालिक हूँ अमित !
    और अब यह सूरज का सुन रहा हूँ ...
    बढ़िया है

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  19. @ बंटी चोर जी
    आप मेरे ब्लॉग पर ऐसी टिप्पणी ना किया करें, जिससे मुझे कमेंट डिलीट ऑप्शन का इस्तेमाल करना पडे।

    प्रणाम

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।