24 December 2010

इसे कहते हैं ब्लॉग चर्चा

  • आपकी जन्म कुंडली में कैसा है भाग्य स्थान -How's your horoscope fortune location
     
    वाह जी अब आप भी, बढिया है। लेकिन बाऊजी भाग्यहीन किसे कहते हैं? ये तो बताईये।
    भाग्य तो सबका होता है ना, अच्छा या बुरा
    लाल किताब के हिसाब से मेरी जन्मकुण्डली की गणना करने पर मेरा पुत्र मुझसे उत्पन्न नहीं होगा।
    लेकिन मेरी पत्नी से तो मुझे पुत्र प्राप्ति हो गई है।
    अब क्या करुं ? क्या अन्जू पर शक करुं कि वो बेवफा है और उसे छोड दूं :) हा-हा-हा









  •  ------------------------------------------------------------------------------------------
     
    Doobeyji
    हैप्पी क्रिसमस .........
    1 hour ago
    सही है जी अब तो सैंटा क्लॉज को प्याज टमाटर गिफ्ट करनी चाहिये।
     ------------------------------------------------------------------------------------------


    लेखा-जोखा,इक्कीसवीं सदी के प्रथम दशक का !

    बढिया रचना है आज के परिवेश पर
    इस समसामयिक पोस्ट के लिये आभार
    व्यंग्य भी है आज के हालात पर और सुखद भविष्य की आस भी
    इसी आशा में तो हर साल को पीछे छोडे जा रहे हैं
    वैसे रामराज कौन सा जिसमें औरतों का अपहरण होता था, या एक गर्भवती औरत को बिना किसी गलती के दण्ड के तौर पर घर निकाला दिया जाता था। जिसमें अपना परचम फहराने के लिये अश्वमेघ यज्ञ करके घोडा छोडा जाता था कि सारी दुनिया मेरे सामने झुक जाये।
    ------------------------------------------------------------------------------------------
  • एग्रीगेटर: यानी एक आँख से देखने वाला?
    2 hours ago
    मैं भी कभी किसी एग्रिगेटर पर पोस्ट पढने नहीं जाता। ना ही हमें इनकी उठा-पटक का कोई अनुभव है। चाहे कोई धांधली करे या ना करे।
    ब्लॉग रजिस्ट्रर्ड करके छोड देता हूँ। मेरे ब्लॉग की फीड ले तो इनकी मरजी ना ले तो अपने बाप का क्या जाता है।
    ना ऊपर चढने का शौक है, ना टिप्पणियों की ढेरी का लालच और ना पाठकों को लाईन में खडे करने का, जिसे पढना हो आये पढे। अपन तो गूगल रीडर से ही पढेंगे।

     ------------------------------------------------------------------------------------------

  • कैसी रीति समाज की -सतीश सक्सेना 
    3 hours ago

    अभी से क्यों रुलाते हो जी
     ------------------------------------------------------------------------------------------

    इस पोस्ट में   अपने पसन्दीदा ब्लॉग्स के लिंक के साथ अपनी टिप्पणीयां जोड कर पोस्ट के लिंक देने की कोशिश की है।  मेरे पसन्दीदा में करीबन 200 ब्लॉग्स हैं। सही रहा तो आगे भी ये कोशिश जारी रहेगी।

13 comments:

  1. अच्‍छी लगी चर्चा।

    ReplyDelete
  2. आपका ये नया प्रयोग भी बढ़िया रहा | इधर हमने भी प्रयोग चालू किया है | दिमाग भिडाया ,माल उडाया ,और पोस्ट में चिपकाया इसे कहते है व्हाट एन आईडिया सर जी |वरना हम कंहा के नजूमी हुए भला ?

    ReplyDelete
  3. सो अब आपने भी चिटठा चर्चा शुरू कर दी अब औरों का क्या होगा अंतर सोहिल ...? प्यारा अंदाज़ है अब इसे जारी रखना चाहें महीने में एक दिन ही करें ! हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. नया प्रयोग बढ़िया रहा

    ReplyDelete
  5. भास्कर खुश हुआ सोहिल जी...

    ReplyDelete
  6. बधाई हो भाई।
    अब तो कमेंट करने से पहले सोचना पड़ेगा:)
    राम-राम ही समझो।

    ReplyDelete
  7. नया प्रयोग सफ्ल हो बधाई और आशीर्वाद।

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग चर्चा के लिए राम राम

    ReplyDelete
  9. वाह ! आप तो छुपे रुस्तम निकले, बहुत खूब, और साथ ही आपका आभार भी ! कुछ व्यक्तिगत परिस्थितियों की वजह से कुछ महिनो से कम्प्युटर पर बहुत समय नही दे पा रहा, अभी नजर गई इस पर ! खैर, आपका बहुत बहुत शुक्रिया मेरी रचना को स्थान देने के लिये !

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।