20 February 2010

बकवास मत कर, सार्थक लिख


दूसरे को कमतर बता कर  खुद को सुप्रियर या ऊंचा साबित करना कितना आसान है ना। बहुत सारी पोस्ट पाठकों के लिये नही ब्लागर्स के लिये लिखी जा रही हैं।  सुपरहिट होने के लिये पोस्ट लिखी जाती हैं, टिप्पणियों के लिये पोस्ट लिखी जाती हैं, पोस्ट के लिये पोस्ट लिखी जाती हैं।


कोई लिखता है कि आज सार्थक ब्लागिंग नहीं हो रही है, सार्थक पोस्ट नहीं लिखी जाती है। कोई किसी  पोस्ट को निरर्थक बता कर अपनी पोस्ट की सार्थकता साबित करना चाहता है। एक पोस्ट जिसे आप निरर्थक कहते हैं, उसके आधार पर आपने एक लम्बी-चौडी पोस्ट निकाल ली, क्या यह  उस पोस्ट (कथित निरर्थक पोस्ट) की सार्थकता नहीं है।


कोई किसी की पोस्ट को फालतू और गंदी बताता है। यह बताने के लिये तुम अपनी ऊर्जा, अपना समय, अपना धन, खर्च कर के एक बडी सी पोस्ट लिखते हो विरोध में। आप संदेश देते हो दूसरों को विरोध करने का और तवज्जो खुद दे रहे हो। जो आप को पढने आता है, जिसे उस ब्लाग का नाम-पता भी नहीं मालूम उसे आप अपनी गाडी में बैठाकर वहां तक छोडने जाते हो। उस पोस्ट के स्नैप अपनी पोस्ट पर लगाकर सबको पढवाते हो, तो फालतू और गंदी कैसे हुई। जिसे कोई  ब्लाग फालतू लगेगा, उसे नही जाना होगा, वह अपने आप जाना छोड देगा। प्रचार तो आप खुद कर रहे हैं,

विरोध भी तो प्रचार का ही एक रूप है।


कोई लिखता है ब्लाग पर सार्थक बहस होनी चाहिये। "सार्थक बहस" यह शब्द ही गलत है। बहस सार्थक हो ही नही सकती है।  जैसे शुद्ध अमृत या शुद्ध वनस्पति घी नही होता है। बहस तो हमेशा निरर्थक ही होती है, क्योंकि इससे कोई परिणाम नही निकल पाता है। एक के पास अनगिनत तर्क हो सकते हैं किसी बात के पक्ष में, दूसरे के पास अनगिनत तर्क हो सकते हैं उसी बात के विपक्ष में। हां विचार सार्थक हो सकते हैं, किसी विषय पर विचारों का आदान-प्रदान करना क्या बहस कहलायेगा???
कृप्या इस लेख को पढने के बाद कोई अवधारणा मन में ना रखें।  मुझ गधे के दिमाग में कुछ विचार आये तो यहां लिख दिये हैं। गधे के दिमाग में विचार आते हैं और वो ढेंचू-ढेंचू करने  ही लगता है। 

22 comments:

  1. भाई आप सही लिखते हैं. पर पोस्ट तो आप भी निकाल ही लेगये ना आखिर?:) यही तो हो रहा है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. विचारोत्तेक गंभीर पोस्ट अंतर सोहिल जी,
    आभार

    ReplyDelete
  3. विचारणीय पोस्ट लिखी है...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. अरे अमित भाई कुछ लोगो की आदत ऎसी होती है उस पर ध्यान ही नही देते, ओर उन्हे अन्देखा कर के आगे बढते है, अगर हर किसी की बात पर अमल करे तो जीना कथीन हो जाये, मस्त रहो

    ReplyDelete
  5. अन्तर सोहिल जी,

    संसार में प्रत्येक वस्तु साक्षेप होती है इसलिये एक पोस्ट जो किसी के लिये सार्थक है किसी दूसरे के लिये निरर्थक हो सकता है। सार्थकता और निरर्थकता के सबके अपने-अपने अलग-अलग मानदंड हैं। जिसे आत्मतुष्टि पसंद है वह अधिक से अधिक टिप्पणी पाने को ध्यान में रखकर पोस्ट लिखेगा और जिसे कुछ सीखना-सिखाना पसंद है वह अधिक से अधिक पाठक पाने को ध्यान में रखकर पोस्ट लिखेगा।

    ReplyDelete
  6. चलो, अच्छा किया अपने विचार लिख दिये. सोचने योग्य हैं बातें.

    ReplyDelete
  7. ब्लोग्गिंग का निरंकुश चरित्र होना चाहिए ..है भी .....मगर ये निरंकुशता ..विचारों में होनी चाहिए ...विवादों में नहीं ...सब अपने आप ठीक होगा ...ब्लोग्गिंग करते रहें
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  8. लो जी एक और पोस्ट निकल गई अब बढ़िया है या नहीं ये तो आप बेहतर जानते हैं :)

    ReplyDelete
  9. आप्ने भी वही किया है कोई नया विचार नही दिया है

    ReplyDelete
  10. Aapane samay ki maang ke anusaar hi post likhi hai....ek dusare par chinta kashi karati hui posts likh kar koi apane aap ko vidwaan sabit nahi kar sakata. vidwaan vahi hai jo vinamra hai sohadrata se apana paksh rakh sake naaki kisi ki taang khich kar !!!
    bahas sachmuch nirarthak hai ...vichar vimarsh hi bhasha aur gyaan ke aadaan pradaan aur vistaar ka sahi tarika hai.

    ReplyDelete
  11. आपने भी अख़िर बकवास ही की और सार्थक कुछ भी नहीं लिखा !
    बस इसीलिए तो हमने अपने ब्लॉग अब तक कुछ भी नहीं लिखा !!

    ReplyDelete
  12. हम क्या कहें। हम भी यदा कदा इस प्रकार का विलाप कर पोस्ट निकालते रहे हैं। :-(

    ReplyDelete
  13. आदरणीय ताऊजी
    बिल्कुल सही कहा आपने, मैं भी इसी तरीके से पोस्ट निकाल ले गया।

    ReplyDelete
  14. वीनस केसरी जी, हरि शर्मा जी, शशिकांत ओझा जी
    आपने बिल्कुल सही कहा है जी , धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. @ अंतर सोहिळ

    देखिये ऐसी पोस्ट लिखने का फ़ायदा.....टिप्पणीयों खी बाढ सी आगई.:)

    भाई अमिने तो मजाक के मूड मे टिप्पणी मारी थी. दिल से ना लगाना. बात आपकी सौ फ़ीसदी सही और विचारणिय है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. आदरणीय ताऊजी नमस्कार

    आप मुझे शर्मिंदा कर रहे हैं। आपकी बात बिल्कुल सही है। मुझे आपकी पहले वाली टिप्पणी बहुत अच्छी लगी।
    रही दिल की बात दिल से आप तब ही लग गये थे, जब आपके ब्लाग पर पहली बार आया था। :-)
    सही पूछो तो मैं यही देखना चाहता था कि इस बात को कौन-कौन पकडता है और सीधी बात कहता है। बाकि आपकी यह बात भी एकदम सही है।
    अब मुझे लगता है कि ज्यादा टिप्पणियां इस तरीके से भी पायी जा सकती हैं। लेकिन सच बताऊं मुझे इस पोस्ट पर आयी टिप्पणियों की संख्यां से कोई खुशी नही हुयी है, और मैं ना तो टिप्पणी पाने के लिये टिप्पणी करता हूं और ना ही टिप्पणी के लिये पोस्ट लिखता हूं।

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  17. बिल्कुल सही,
    लेकिन कुछ अपवाद भी हैं.

    ReplyDelete
  18. भाटिया जी ने सही कहा ... किस किस को देखेंगे ... अपना काम किए चलें ....

    ReplyDelete
  19. अरे आप अपना काम करते रहिये कोई कुछ कहता है कहने दें यहाँ वैसे भी कौन किसी की सुनता है सब को अपनी अपनी पडी है। बस कुछ भी लिख देना और काम खत्म ।जहाँ हर तरह के लोग हैं सब से कैसी उमीद की जा सकती है कि वो किसी दायरे मे बन्ध कर लिखे बस आप अपना काम करते रहें। वैसे विचार्णीय पोस्ट है बहुत लोगों के दिल की बात मगर कौन सुनता है। बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. आपकी भावनाओं से सहमत हूँ और इसीलिए इस तरह के पचड़ों से दूर रहकर अपनी समझ के विषयों पर निरंतर लेखन करता रहा हूँ। लोकप्रियता सब चाहते हैं और इसमें कोई बुराई भी नहीं।पर उसके लिए मेहनत ना कर सिर्फ इन रास्तों का प्रयोग कर शार्ट कर्ट खोजते हैं। कुछ दिनों तक ये फार्मूला तो कारगर होता है पर बाद में तो आपका लेखन ही काम आता है।

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।