07 February 2011

श्री राधा हमारी गोरी-गोरी

ब्लॉग……ब्लॉगर….।।टिप्पणी॥॥….।…अनामी…॥बेनामी…अच्छा…।बुरा॥….॥गुटबाजी…
…खेमा….॥ हिन्दू…॥मस्लिम….॥झगडा….…।शिकायत्….…नेता……।राजनेता……
मठाधीश॥….।माफी॥….…।मिस्र……।काश्मीर्….…काम्….…कविता……।रचना……
॥लेखन॥…॥…बोतल॥…॥शराब……।फोन॥….॥मोबाईल॥….।॥इन्टरनेट……॥घूमना
॥…॥…॥सर्च॥…॥…॥…खोज…….।गूगल॥।॥…तस्वीर॥…॥…।फोटो।॥….।॥गंदी….…
…।सुन्दर्॥….…शुभकामनायें॥…॥…॥बधाई………जनता॥…॥…मँहगाई॥……कुर्सी…
…परमात्मा॥…।॥अल्लाह॥…॥गॉड……।ज्योतिष॥…॥विज्ञान॥……॥कवि॥….॥आयोजन्॥
….॥मिलन्…महिला…।कीबोर्ड……।माऊस......पकडो……छोडो...छोडो  
 
छोडो आज ये सब और ये प्यारा भजन सुनो
 
यह गीत करीबन 35 मिनट का है। इसलिये आप खाली समय में सुनेंगें तो ही इस मधुर संगीत का आनन्द ले पायेंगें। 
 
योगी जन जानता ना कहना जिसका प्रभाव
 जिसकी कला का पार शारदा ना पाती है
शंकर समाधि में ढूंढते हैं जिसको
श्रुतियां भी नेति-नेति कहे हार जाती हैं
 
 

इस पोस्ट के कारण गायक, रचनाकार, अधिकृता, प्रायोजक या किसी के भी अधिकारों का हनन होता है या किसी को आपत्ति है, तो क्षमायाचना सहित तुरन्त हटा दिया जायेगा।

14 comments:

  1. अभी तो इतना समय नहीं है. बाद में सुनते हैं. फुर्सत में.

    ReplyDelete
  2. वाह भाई बहुत बढिया भजन है।

    राम राम

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भजन है| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  4. बहुत जोरदार जी, शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  5. क्यूंकर जुलम करै सै भाई फ़ौजी? यो सब छोड़ दिया तो आड़े बचैगा के?:))
    भजन फ़िर सुनेंगे, पहले ये सब पकड़ने दो।

    ReplyDelete
  6. पकडो जी आज की टिपण्णी मे चला भजन सुनने...

    ReplyDelete
  7. जरूर सुनेंगे....
    आपके शब्दों से बचपन की कहानियां याद आ गयी....
    मदन चल, नटखट मत बन. घर पर चल कर कटहल चख....इत्यादि.

    ReplyDelete
  8. संकेतात्‍मक पोस्‍ट। भजन सुन रहे हैं।

    ReplyDelete
  9. वाह वाह अंतर जी, यही तो दुनियावी बातों और भजन में अंतर है। बहुत आनंद आ गया जी।

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।