18 October 2010

क्या गधा, सचमुच गधा होता है?

हरियाणा के रोहतक जिले में एक गांव है "समाल"। दिल्ली-रोहतक लाईन पर इस गांव का छोटा सा रेलवे स्टेशन है "ईस्माइला हरियाणा"। हाँ समाल का यही असली नाम है। यहां पर एक ताऊ रामजी लाल रहता था (असली नाम याद नहीं है)। रामजी लाल के पिताजी पाकिस्तान विघटन के समय पंजाब से यहां विस्थापित हुये थे। रामजी लाल ने  कुछ भैसें खरीदी और दूध का कारोबार शुरु किया।  रामजी लाल के पास 2-3 गधे भी थे। रोजाना सुबह दूध के ड्रम (डिब्बे) गधों पर लादे जाते और गधे अपने आप स्टेशन पर पहुंच जाते। वहां गाडी से आने वाले दूधिये उन डिब्बों को गधों से उतारकर ट्रेन में लेकर दिल्ली सप्लाई कर आते। पूरा दिन गधे वहीं स्टेशन के आस-पास घास चरते रहते और शाम की गाडी के समय स्टेशन पर आ जाते। खाली डिब्बे उनपर लाद दिये जाते और गधे वापिस अपने घर यानि रामजी लाल के घर पहुंच जाते।  ये बात 1972 की हैं, मेरे पिताजी द्वारा मुझे बताई गई हैं। पिताजी के मामाजी "समाल" निवासी थे।Gadha3

अब इस बात से विचार आया कि क्या गधा सचमुच गधा होता है? मेरा मतलब है क्या गधा सचमुच मूर्ख प्राणी होता है? नहीं जी बिल्कुल नहीं।  गधे पंक्ति बना कर चलते हैं, पंक्ति में खडे होते हैं और गंतव्य पर पहुंच कर रुकते हैं।
Gadha1 
आप अपनी गाडी से कहीं जा रहे हैं और आपके रास्ते में कोई गधा खडा हो तो आप लाख हॉरन बजायें बहुत कम मौके हैं कि गधा वहां से हट जाये। आपको गाडी से उतर कर कान पकड कर (अजी अपना कान नहीं,गधे का) उसे धकियाना पडेगा। गधा जब खाली मतलब बिना बोझ के चलता है तो बीच सडक पर चलता है और अगर आपउसपर सवार हो जायें (मैनें करके देखी है जी गधे की सवारी) तो एकदम साईड में चलना शुरु कर देगा। दीवार के साथ-साथ, ताकि आपके घुटने दीवार से रगड खाते रहें और आप  उस पर से उतर जायें। Gadha2उतरते ही फिर सडक के बीच में चलने लगेगा।
मुझे तो देखने में गधा बहुत विचारशील प्राणी दिखता है। कहीं दो-तीन गधों को धूप में खडे देखिये, उनकी आँखें और चेहरा, ऐसा लगता है कि कुछ बुद्धिजीवी काश्मीर मसले या ऐसी ही किसी समस्या पर मंत्रणा या विमर्श कर रहे हों।
"गधा इतना भी गधा नहीं होता" इस विचार को मजबूती प्रदान करता एक आखिरी उदाहरण ये है कि मुझ गधे को पढने के लिये ही आप लोग इस पोस्ट पर आये हैं।
सभी चित्र गूगल से साभार 

20 comments:

  1. क्या गधा, सचमुच गधा होता है
    .........जी बिल्कुल नहीं

    ReplyDelete
  2. गधों के बारे में एक कहावत और है की गधा बहुत मेहनती जीव है ...अतः आपके इस पोस्ट के बाद किसी गधे को सचमुच गधा(मुर्ख और अनुपयोगी) कहना मुश्किल होगा ...

    ReplyDelete
  3. 5.5/10

    दिलचस्प
    मौलिक पोस्ट

    ReplyDelete
  4. aji gadhe to hami hai jo gadhe ke peechhe hi pad gaye

    ReplyDelete
  5. सोहिल भाई, आपकी अन्तिम बात में दम है। गधा किसी ब्लॉगर से कहाँ कम है।

    ReplyDelete
  6. गधा का चरित्र, बड़ा सधा है। अन्यथा तो बोलता ही नहीं है।

    ReplyDelete
  7. गधा वाकई गधा नहीं होता है ... मान लिया

    ReplyDelete
  8. गधा जब खाली मतलब बिना बोझ के चलता है तो बीच सडक पर चलता है और अगर आपउसपर सवार हो जायें (मैनें करके देखी है जी गधे की सवारी) तो एकदम साईड में चलना शुरु कर देगा

    हा हा हा गधानामा तो जोरदार लगा ...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर लगी आप की गधे की कथा, वेसे कोई भी जानवर वेबकुफ़ नही होता,बस वेजुबान होते हे बेचारे,अति सुन्दर प्रस्तुति . धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. ये गधा-चरित्र बाँचकर मन खूऊऊऊब आनन्दित हुआ :)

    ReplyDelete
  11. ऐसी मौलिक और गज़ब की जानकारी और किसी ब्लॉग पर न मिलने की।

    ReplyDelete
  12. न बिल्कुल नहीं ..असल में गधे तो हम होते हैं ..और गधे को देखिए ..कि वो हमें इंसान समझता है ..हद है गधेपन की ..वैसे सच में गधा ...उतना भी गधा नहीं होता ..जितना आदमी खुद एक गधा होता है

    ReplyDelete
  13. ""गधा इतना भी गधा नहीं होता" इस विचार को मजबूती प्रदान करता एक आखिरी उदाहरण ये है कि मुझ गधे को पढने के लिये ही आप लोग इस पोस्ट पर आये हैं।"

    जो इस बात का प्रमाण है की गधा सचमुच में गधा नहीं होता ....हा-हा-हा-हा

    ReplyDelete
  14. एक सज्जन का चुनाव चिन्ह गधा था। उसका नफा यह हुआ कि ढ़ेरों उम्मीदवारों के बीच लोगों ने उन्हे ज्यादा याद रखा। :)

    ReplyDelete
  15. असल में ऐसा है अमित जी कि गधा शान्त, सहनशील और विरोध ना करने वाला एकमात्र प्राणी है। अगर किसी इंसान में ये गुण हों तो आजकल उसे मूर्ख कहा जाता है। इसीलिये उसकी तुलना गधे से की जाती है। और इसीलिये गधा भी मूर्खों का पर्याय बन गया है।

    ReplyDelete
  16. प्रणाम सोहेल जी , आपकी ये रचना कल चर्चामंच पे चर्चा में रहेगी :)

    सादर

    कमल

    ReplyDelete
  17. कि‍सी एक कवि‍ता की अंति‍म पंक्‍ति‍यां हैं ''...माइक के इस तरफ भी गधा है, माइक के उस तरफ भी गधे हैं'' नि:संदेह गधे केवल ईस्माइला हरियाणा में ही नहीं हैं समाज में हर तरफ गधे ही गधे हैं :-)

    ReplyDelete
  18. gadha to gadha hota hai. use chahe koi murkh kahe ya sayana. jaise cow ko cow, horse ko horse etc.

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।