01 July 2010

जा रै प्यारे, देखे थारे, झूठे सैं ये रिश्ते सारे

यह रचना (हरियाणवी रागिनी) मेरे मित्र "कृष्ण टाया" जी की है। पसन्द आये तो साधुवाद जरूर दीजियेगा।
कवि ने पुराने समय और आज के जमाने की तुलना की है। बीते समय में रिश्तों की क्या अहमियत होती थी और आज के रिश्ते कैसे हैं। 

तर्ज - हमका माफी दई दो (किशोर कुमार)
फिल्म - राम-बलराम

जा रै प्यारे, देखे थारे, झूठे सैं ये रिश्ते सारे
जा रै प्यारे, देखे थारे, झूठे सैं ये रिश्ते सारे
भीत्तरले महै काला, मन्नै विश्वास ना रहया
हो रिश्ता कोये खास ना रहया
जा रै प्यारे……………………………………

सुनी हो सावित्री एक नार, लकडहारे तै होया प्यार
यमराज वचनां मै ले कै वा छुडा लाई भरतार
आज पार्लर जावैं, कटिंग करावैं, रूस-रुस पीहर जावैं
आज पार्लर जावैं, कटिंग करावैं, रूस-रुस पीहर जावैं
पीये होये कै लावैं, साब कै भी सांस ना रहया
हो रिश्ता कोये खास ना रहया
जा रै प्यारे……………………………………

श्रवण भगत का सुना हो नाम, मात-पिता के कराये धाम
दशरथ का जब तीर लगा, उसनै लिया हरि का नाम
आज पी कै आवैं, रोब दिखावैं, बुजुर्गां पै ठहरा ठावैं
आज पी कै आवैं, रोब दिखावैं, बुजुर्गां पै ठहरा ठावैं
बहु-बेटे न्यारे होगे, कोये पास ना रहया
हो रिश्ता कोये खास ना रहया
जा रै प्यारे……………………………………

रै वो तो कृष्ण काला था, सुदामा का लिकडा दीवाला था
हंस कृष्ण नै कोली भर कै, अपना यार संभाला था
आज लोक दिखावा प्यार करैं, वार करैं, जार बनै
आज लोक दिखावा प्यार करैं, वार करैं, जार बनै
हो गया घुप अंधेरा, आडै प्रकाश ना रहया
हो रिश्ता कोये खास ना रहया
जा रै प्यारे……………………………………

भाई रै मतलब के सब लोग, करै लोक दिखावा ढोंग
भाई नै आज भाई मारै, करै फेर लोक दिखावा शोक
कृष्ण टाया, नूं घबराया, के हो गयी राम तेरी माया
कृष्ण टाया, नूं घबराया, के हो गयी राम तेरी माया
तूं टोहे तै भी ना पाया
के आडै तेरा वास ना रहया
हो रिश्ता कोये खास ना रहया
जा रै प्यारे……………………………………

रचनाकार - कृष्णप्रिय
ग्राम - साकरा
जिला - कैथल
फोन - 09992095096

अब यह गाना भी सुन लीजिये।

18 comments:

  1. koi kisi ka nahi ye jhoote nate hain. naton ka kya....

    kasme vaade pyaar vafa sab, batein hain, baton ka kya..

    ReplyDelete
  2. ओ छोरे! कमाल कर दिया।

    मन्ने तो सोची थी के बिडियो म्हे कोई रागनी सुणावैगा। पण यो तो फ़िलमी गीत लिकड़या भाई।

    किसी दिन कोई किलकी पाड़ रागणी सुणा दे तो मौज हो ज्यागी।

    राम राम

    ReplyDelete
  3. कृष्णप्रिय जी ने तर्ज तो बहुत सुंदर भिड़ाई है।
    बधाई।
    ---------
    किसने कहा पढ़े-लिखे ज़्यादा समझदार होते हैं?

    ReplyDelete
  4. @ ललित शर्मा जी

    जल्द ही आपको किल्की पाड रागिनी पेश की जायेगी।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर जी मजे दार

    ReplyDelete
  6. यह भी सुंदर ..बढ़िया प्रस्तुति..धन्यवाद सोहिल जी

    ReplyDelete
  7. रागिनी भी कामल सै भाई और वीडियो भी।बाकी वा किलकी पाड़ रागिनी का हमने भी इंतजार रहोगा।

    ReplyDelete
  8. प्रविष्ठी तो बहुत ही बढ़िया रही आपकी...
    और इंतज़ार हम भी कर रहे हैं....

    ReplyDelete
  9. शानदार रचना। मुझे याद आ गया फिल्म "हाथी मेरे साथी" के गाने की एक पंक्ति "मतलब की दुनिया को छोड़ के प्यार की दुनिया मे खुश रहना मेरे यार्…॥

    ReplyDelete
  10. कहां से निकाल कर लाये हो जनाब।

    ReplyDelete
  11. अरे वाह, ये तो मैं पढ ही नहीं पाया था, बहुत सुन्दर।
    ................
    अपने ब्लॉग पर 8-10 विजि़टर्स हमेशा ऑनलाइन पाएँ।

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।