19 December 2011

महफिल सजी है आजा…………॥

"हर बात का वक्त मुकर्रर है, हर काम की शात होती है
वक्त गया तो बात गयी, बस वक्त की कीमत होती है"
देर ना हो जाये कहीं देर ना हो जायें
महफिल सजी है आजा, के तेरी कमी है आजा
ख्वाबों की कसम तुझे ख्यालों की कसम है
आजा के तुझे चाहने वालों की कसम है

आयोजन, स्थल, रास्ते, समय आदि की पूरी और विस्तृत जानकारी के लिये नीचे दिये लिंक्स पर क्लिक करें।
कौन-कौन आ रहा है एक बार फिर से नजर मार लें और जिनके नाम निम्न सूचि में नहीं हैं कृप्या टिप्पणी ईमेल या फोन द्वारा इन नम्बरों पर श्री राज भाटिया जी को 09999611802 या अन्तर सोहिल (मुझे) को 09871287912 पर अपने आने की खुशखबरी जल्द दें।
श्री सतीश सक्सेना जी  की भी आने की पूरी संभावना है।

3 comments:

  1. बहुत बहुत शुभकामनायें इस कार्यक्रम के लिये।

    ReplyDelete
  2. प्रिय अमित भाई !
    आभार आमंत्रण और मुझ पर विश्वास के लिए ...
    राज भाटिया खास दोस्तों में से हैं और आप तो परिवार के अंग जैसे हो , २४ दिसंबर को बेटे की सगाई समारोह के कारण, यहाँ आ पाना संभव नहीं हो पा रहा !
    आशा है शीघ्र मुलाकात होगी !
    सादर

    ReplyDelete
  3. कोशिश है, इसलिए उम्मीद भी है कि आप लोगो से अवश्य मिलेंगे...

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।