30 December 2011

ताऊ का फोन और सांपला ब्लॉगर्स मीट के बारे में

कल शाम ऑफिस से घर वापिस जाते हुये  ट्रेन से उतरा ही था कि मेरा फोन बजा। उधर से ताऊ बोल रहे थे। ताऊजी ने बताया कि दिल्ली आये हुये हैं और श्री राज भाटिया जी से बात करना चाहते हैं और उनका नम्बर 09999611802 बंद आ रहा है।  मैनें बताया कि राज जी तो 28-12-2011 की रात 10:00 बजे की उडान से जर्मनी पहुंच चुके होंगे और अब 0999611802  पर राज भाटिया जी से बात नहीं की जा सकती है। फिर मैनें ताऊजी को सांपला ब्लॉगर्स मिलन के बारे में बताया। ताऊजी आजकल अन्तर्जाल से दूर हैं, इसलिये उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं थी। मैनें भी ताऊजी को या किसी भी ब्लॉगर को ईमेल या फोन नहीं किया था। हालांकि एक-दो  ब्लॉगर्स इस मीट के बारे में जानते हुये और सांपला आने का मन होते हुये भी शायद इसी वजह से नहीं आये होंगे, ऐसा मुझे लगता है।  मुझे कहा भी गया था कि फलाने-फलाने को निमंत्रण दे देना। लेकिन मेरा विचार ये है कि सबको मेल द्वारा निमंत्रण देना संभव नही हो सकता था। मैं बहुत सारे ब्लॉग्स को फॉलो करता हूं और सभी ब्लॉगर्स मेरे लिये सम्मानीय है। इनमें से कुछ को व्यक्तिगत मेल या फोन करना मुझे दूसरों के साथ फर्क करने का अहसास दिलाता।

इस मीट की नींव पिछले साल तिलयार झील पर हुई ब्लॉगर्स मीट के समय ही पड गई थी। सांपला सांस्कॄतिक मंच पिछले वर्ष करवाये कवि सम्मेलन की सफलता से उत्साहित था और अपनी दूसरी भव्य प्रस्तुति के लिये शुभ-मूहर्त निकलवा रहा था। 14  से 28 दिसम्बर के मध्य राज जी भारत प्रवास पर आ रहे थे। राज जी यहां आने पर भारतीय ब्लॉगर्स से मिलने का बहाना ढूंढते हैं, लेकिन कम समय में ज्यादा से ज्यादा लोगों से मिलना मुश्किल होता है। बस 24 तारीख फिक्स हो गई और दिन में ब्लॉगोत्सव करवाने का निर्णय लिया गया। पहले इस मीट का आयोजन मैं और राज जी करना चाहते थे, लेकिन सांपला सांस्कॄतिक मंच ने इस मीट का आयोजक बनने की इच्छा जाहिर की।

कुछ लोग ऐसी ब्लॉगर्स मीट पर प्रश्नवाचक दॄष्टि रखते हैं। उन्हें मैं बताना चाहता हूं कि ब्लॉगिंग उत्थान संबधिंत गंभीर मसलों पर विचार के लिये तो ब्लॉगपोस्ट से बढिया क्या हो सकता है। और ये ब्लॉगर मीट तो केवल मिलने-मिलाने के लिये ही थी। आभासी रिश्ते जब आमने-सामने होते हैं तो कितने ही वास्तविक रिश्ते फीके लगने लगते हैं, इन रिश्तों गन्नों की मिठास तो इन्हें खाने वाला ही जान सकता है। दूसरी बात इस मीट से पहले जिस क्षेत्र में कोई ब्लॉग शब्द को नही जानता था, वहां से 4-5 नये ब्लॉगर्स पैदा होने के लिये तैयार खडे हैं तो क्या ये बात हिन्दी ब्लॉगिंग के लिये बुरी है। ऐसी ब्लॉगर्स मीट से एक उत्साह पैदा होता है, जो ब्लॉगिंग में ऊब रहे लोगों में ऊर्जा का संचार भी करता है।

मैं सभी मित्रों का हार्दिक धन्यवाद और आभार प्रकट करता हूं, जिन्होंने अपना अमूल्य समय खर्च करके और ठंड में लंबी यात्रा की परेशानियों को झेलते हुये सांपला ब्लॉगर्स मिलन में उपस्थिति दी। सुश्री संगीता पुरी जी और श्री ललित शर्मा जी ने प्रॉक्सी अटेंडेंस भी लगाने की कोशिश की थी।  इनका फोन आना ये दर्शाता है कि इन ब्लॉगर्स का मन तो सांपला में ही है पर किन्हीं मजबूरियों की वजह से नहीं आ पाये हैं।

बहुत सारी बातें कहनी हैं लेकिन धीरे-धीरे कह पाऊंगा। अभी तो प्रणाम स्वीकार करें।

सांपला ब्लॉगर्स मीट से जुडी अन्य पोस्ट

अनोखी यात्रा………….अनोखे पल

सांपला ......एक मुलाकात , हरियाणा के गांव की ,अंतर्जाल के बाशिंदों से

जब अलबेला खत्री स्टेशन से उठाए गए … सांपला ब्लागर मीट 24-12-11 (भाग-1)

कवि सम्मेलन और रज़ाई वार्ता … सांपला ब्लागर मीट 24-12-11 (भाग-2)

कमाल है ब्लोग्गेरो के मेल-जोल होने पर भी कसी को किसी तरह का द्वेष हो सकता है....?(कुँवर जी)
सांपला, ब्लॉगर मीट, अन्ना भाई...खुशदीप
SAMPLA BLOGGER MEET साँपला ब्लॉगर मिलन 1
"SAMPLA BLOGGER MEET साँपला ब्लॉगर मिलन समापन किस्त "
 

12 comments:

  1. ताऊ आजकल क्‍या कर रहे हैं? ब्‍लागिंग से कैसे दूर हैं? आपने पूछा नहीं।

    ReplyDelete
  2. हमें तो ये दिन और सांपला अब ताउम्र एक मीठी याद की तरह मन में बस सा गया लगता है । ताऊ जी की खोज खबर देकर आपने अच्छा किया ,पिछले दिनों उन्हें याद करते रहे ।

    ReplyDelete
  3. भारी भारी लेखन के बाद खुशनुमा माहौल आवश्यक है।

    ReplyDelete
  4. ताऊ की खोज ख़बर पाकर अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  5. ना भूलने वाले क्षण ………………बहुत खूबसूरत प्रस्तुति……………आगत विगत का फ़ेर छोडें
    नव वर्ष का स्वागत कर लें
    फिर पुराने ढर्रे पर ज़िन्दगी चल ले
    चलो कुछ देर भरम मे जी लें

    सबको कुछ दुआयें दे दें
    सबकी कुछ दुआयें ले लें
    2011 को विदाई दे दें
    2012 का स्वागत कर लें

    कुछ पल तो वर्तमान मे जी लें
    कुछ रस्म अदायगी हम भी कर लें
    एक शाम 2012 के नाम कर दें
    आओ नववर्ष का स्वागत कर लें

    ReplyDelete
  6. अंतर भाई बहुत अच्छा लगा इस ब्लाग मिलन मे आ कर, ओर फ़िर कवि सम्मेलन ने चार चांद लगा दिये, बहुत से ब्लागर मित्रो से मिलना हुआ,यह सब मिट्ठी यादे मन मे समेट कर वापिस आया हुं, फ़िर आप का चेहरा याद आता हे.... चलो फ़िर मिलेगे, हां मेरे दोनो लडके ओर तुम्हारी भाभी जल्द ही( अप्रेल) मे फ़िर भारत आ रहे हे, इस बार तुम इन लोगो के संग रोहतक जाना, एक नजर मकान को देख आयेगे, ओर आडोसी पडोसियो को राम राम कह आयेगे.... मै नही आ रहा,
    जो जो साथी इस ब्लाग मिलन मे आये, ओर जो ना आ पाये सब को मेरी तरफ़ से हाथ जोड कर नमस्ते...

    ReplyDelete
  7. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. हमने तुम्हें बुलाया था, तुम नहीं आये लेकिन तुमने बुलाया तो हम चले आये। एक गलती मुझसे हो गई, ’चला बिहारी’ वाले सलिल भैया से मैंने ही बताया था और खुद के ही आने को लेकर अनिश्चितता के चलते आते समय उनसे बात नहीं कर पाया वरना और भी रंग जमता।
    बहुत अच्छा लगा था, इतने प्रेम भरे सत्कार के लिये आयोजक साथियों को धन्यवाद देना, हमारा तुम्हारा हिसाब फ़िर कर लेंगे:)

    ReplyDelete
  9. संबंधित पोस्ट्स में आलोचना वाली पोस्ट का लिंक नहीं दिख रहा, वो भी दिखाना था यार।

    ReplyDelete
  10. आप को भी सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर

    ReplyDelete
  11. bhai ye aalochana wali kaun se post aa gayee hamne nahi padhi ..link dena ...


    ham aap ke safal sukhad aur sunder ....kamna karte hai...

    sab kuch bahut sunder tha aap se vichaar waha mil nahi paye kabhi chawari bazar aana hoga to jarur vicharo ka milan hoga ...

    sab ko Ram Ram..jai baba banaras...

    ReplyDelete
  12. आदरणीय कौशल मिश्र जी नमस्कार

    स्वागत है आपका और अबतो इंतजार रहेगा, बताईयेगा कब आ रहे हैं आप
    मेरा नम्बर 9871287912 सुरक्षित कर लीजियेगा

    प्रणाम

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।