20 March 2018

पत्थर भी पिघलते हैं...?


इस पत्थर पर 
बहुत आये बैठे
और चले गए
किसने सुबह 
मुड़कर देखा
किसने सोचा
पत्थर भी पिघल
सकता है
पत्थर बेशक पत्थर है
पर पिघलता है 
अंदर ही अंदर
दिखाई नहीं देता सबको
महसूस कर सकते हैं
वही जिसने इसे
बाहर से नहीं
अंतर से छुआ
इन्तजार कर रहा है
पत्थर भी
फिर से पत्थर होकर
पिघलने का
सदियां लगेंगी
पर जुड़ेगा एकदिन
और पिघलेगा
जब कल रात जैसे
कोई थोड़ी देर
आकर बैठेगा
आप जैसा 

13 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विश्व गौरैया दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. वाह !बेहतरीन सृजन 👌

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।