22 April 2010

क्या आप कौवे पर बीट डाल सकते हैं

चित्र गूगल से साभार
ब्लागवाणी और चिट्ठाजगत तो हरे-भरे प्यारे विशाल वृक्षों जैसे हैं। जिनके नीचे  सभी हिन्दी ब्लागर ठंडी छांव का आनन्द लेते हैं। मगर इन पेडों की जिस डाल के नीचे आप बैठने जा रहे हैं, वहां पहले जांच ले कि कहीं उस डाल पर कौवे का घौंसला तो नही है। क्योंकि आपके बैठते ही आपके ऊपर, अगर कौवे ने बीट (पोटी) कर दी तो??? अजी डाल उसकी, घौंसला उसका, क्या करेंगें आप??? जी भर के कोसिये, गालियां निकालिये या प्यार से कौवे को ऐसा करने पर एतराज जताईये, यही तो  कौवे के लिये  दाना-पानी हैं। कुछ नही होगा, कौवा आपके  मुकाबले ज्यादा जोर से और ज्यादा देर तक कांव-कांव कर सकता है। क्योंकि उसका तो जन्मजात गुण है ये और आपने तो शायद आज से पहले कभी कांव-कांव का अभ्यास भी नही किया है। या आप कौवे से ऊंचे उडकर, उसके ऊपर बीट करने की कोशिश करेंगें??? अगर कर पाये तो आप कौवे से भी बडे गंदे प्राणी हो गये। अगर आप कौवे के घौंसले के नीचे बैठ ही गये हैं तो एक तरीका और हो सकता है कि कौवा बीट करे तो आप हंसकर,  अपने कपडे झाडकर, वहां से निकल सकते हैं और दूसरी साफ सुन्दर डाली के नीचे जा सकते हैं।

12 comments:

  1. "कुछ नही होगा, कौवा आपके मुकाबले ज्यादा जोर से और ज्यादा देर तक कांव-कांव कर सकता है। क्योंकि उसका तो जन्मजात गुण है ये और आपने तो शायद आज से पहले कभी कांव-कांव का अभ्यास भी नही किया है।"

    Agreed 100%

    ReplyDelete
  2. बिल्कुल सही कहा आपने, जैसे कुत्ता आपको काट भी खाये तो कुत्ते को काटा नही जा सकता.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. सुन्दर अनुकरणीय सलाह ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सही कहा,अगर कुत्ता भोंके तो उस के साथ इंसान तो नही भोंकने लगता... बच के निकल जाने मै ही अकल मंदी है.

    ReplyDelete
  5. आप क्रोधित हों तो अपने रिस्क पर! :)

    ReplyDelete
  6. सच है! कौवा तो नासमझ(?) ठहरा :-)

    ReplyDelete
  7. कौवा तो अगली डाल पर भी हो सकता है सर
    लगता है ब्लागवाणी और चिट्ठाजगत को छोड़ कर किसी जगह को तलाश करना पड़ेगा .

    ReplyDelete
  8. मैं कर सकता हूं कौवे के ऊपर बींट।
    गारण्टी से।
    कोई शक तो नहीं है?

    ReplyDelete
  9. lekin yhan to beent jhadna bhi beent karna samjha jaa raha hai uska kya ho???????????????

    ReplyDelete
  10. pranam swikar hai...mere blog par aane kr liye bahut bahut dhanywad..yu hi aate jaate rahihe achha lagega.

    ReplyDelete

मुझे खुशी होगी कि आप भी उपरोक्त विषय पर अपने विचार रखें या मुझे मेरी कमियां, खामियां, गलतियां बतायें। अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार के लिये और टिप्पणी के बदले टिप्पणी की भावना रखकर, टिप्पणी करने के बजाय टिप्पणी ना करें तो आभार होगा।